Tuesday, June 28, 2022
Homeपर्व और त्यौहारहिन्दू वर्ष के 12 महीनों के नाम | Hindu Nav Varsh...

हिन्दू वर्ष के 12 महीनों के नाम | Hindu Nav Varsh Samvat 2079

अवश्य पढ़ें

हिन्दू वर्ष भारत और भारतीयता की पहचान, जिसे एक प्रकार की मानसिक गुलामी के कारण भुलाया जा रहा है? अँग्रेजी new year को तो हम बढ़े उत्साह से मनाते हैं लेकिन आज अपने हिन्दू नववर्ष को भूलते जा रहे हैं! देश में वर्तमान समय में अंग्रेजी एवं पाश्चात्य संस्कृति के बढ़ते हुये वर्चस्व के कारण हम लोग अपनी अनेक सांस्कृतिक पहचान एवं गतिविधियां/क्रियाकलापों को या तो भूलते जा रहे हैं या उनसे छिटक कर दूर होते जा रहें हैं!

सौ प्रतिशत दावे के साथ कहा जा सकता है कि वर्तमान में अँग्रेजी महीनों के नाम तो एक पढ़े हुये व्यक्ति से लेकर अनपढ़ व्यक्ति को ज्ञात भी होंगे, लेकिन वहीं अगर हम बात करें भारत के अपने वर्ष / कलेंडर की (जिसे अधिकतर ‘हिन्दू वर्ष’ कहा जाता है) उसके पंचांग के अनुसार महीनों के नामों की तो शायद जानकार आश्चर्य होगा कि “स्वयं को दावे के साथ हिन्दू कहने वाले और हिंदूत्व की पहचान को बचाने का दावा करने वालों को भी हिन्दू वर्ष के महीनों के नाम याद नहीं होंगे!! वैसे हो सकता है कि हिंदूत्व के दावेदार कुछ लोग हिन्दू वर्ष के महीनों के नाम भी जानते होंगे लेकिन क्रमवार नाम जानने वालों की संख्या नगण्य ही मिलेगी!

यह भी पढ़ें: चैत्र नवरात्रि प्रथम दिन | माँ शैलपुत्री की पूजा विधि, कथा, मंत्र,…

ये लेख उन सभी भारतीयों के लिए है जिन्हें हिन्दू वर्ष के महीनों के नाम नहीं पता और वो जानना चाहते हैं। किसी हिन्दी कवि ने बड़े ही रचनात्मक ढंग से हिन्दू वर्ष के बारह महीनों के नामों का एक कविता में पिरोया है।

तो आइए आप भी इस कविता के माध्यम से हिन्दू वर्ष/भारतीय कैलेंडर के महीनों के नाम याद कर लीजिये:

जानें भारतीय महीनों के बारे में:

हिंदू वर्ष / हिन्दू पंचांग के आधार पर भी एक वर्ष में 12 महीने ही होते हैं लेकिन दिन 360 होते हैं जिसके कारण संशोधन करने के लिए प्रत्येक 3 वर्ष पश्चात किसी एक माह में 15 दिन अतिरिक्त जोड़ दिये जाते हैं और उस विशेष मास को मलमास (leap year) कहा जाता है।

यह भी पढ़ें: वट सावित्री व्रत का महत्व | यह क्यों और कब मनाया जाता…

हिन्दू वर्ष के महीनों के नाम नक्षत्रों के नाम के आधार पर रखे गए हैं। हिन्दू काल गणना के आधार पर महीने की पूर्णिमा तिथि को चंद्रमा जिस नक्षत्र में होता है, उसी के आधार पर उस महीने का नाम रखा गया है। हिंदू नववर्ष का आरंभ चैत्र मास की प्रथमा तिथि से होता है एवं वर्ष का अंत फाल्गुन माह की पुर्णिमा को होता है। हिन्दू धर्म में फाल्गुन मास की इस पूर्णिमा का विशेष महत्व है क्योंकि इस दिन हिन्दूओं का एक बड़ा त्यौहार होली भी मनाया जाता है।

प्रथम महीना चैत्र से गिन। राम जनम का जिसमें दिन।।

द्वितीय माह आया वैशाख। वैसाखी पंचनद की साख।।

ज्येष्ठ मास को जान तीसरा। अब तो जाड़ा सबको बिसरा।।

चौथा मास आया आषाढ़। नदियों में आती है बाढ़।।

पांचवें सावन घेरे बदरी। झूला झूलो गाओ कजरी।।

भादौ मास को जानो छठा। कृष्ण जन्म की सुन्दर छटा।।

यह भी पढ़ें: नाग पंचमी पर क्यों होती है सर्पों की पूजा | देश के…

मास सातवां लगा अश्विन। दुर्गा पूजा घर – घर मनी।।

कार्तिक मास आठवां आए। दीवाली के दीप जलाए।।

नवां महीना आया अगहन। सीता बनीं राम की दुल्हन।।

पूस मास है क्रम में दस। पीओ सब गन्ने का रस।।

ग्यारहवां मास माघ को गाओ। समरसता का भाव जगाओ।।

मास बारहवां फाल्गुन आया। साथ में होली के रंग लाया।।

बारह मास हुए अब पूरे। छोड़ो न कोई काम अधूरे।।

Dr Anil Verma
Editor in Chief

Related Articles

“बरगद” भारत का राष्ट्रीय वृक्ष | National tree of India

"बरगद" वह वृक्ष जिसे भारत का राष्ट्रीय वृक्ष होने का सम्मान मिला है। इसे...

विज्ञान और स्वास्थ्य: Covid-19 Pandemic से मिली शिक्षा

Covid-19 Pandemic ने 2020 के आरम्भ से ही  पूरी दुनिया को अपनी गिरफ्त में...

मारवाड़ी कौन | सफलता की पहचान और एक व्यापारिक समूह ?

'मारवाड़ी' इस शब्द को सुनते ही, लोगों के मन में इस शब्द के प्रति...

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisement -spot_img
Latest Article

विलोल वीचि वल्लरी “शब्द जंग खा गए हैं/कविता चोटिल है”

'विलोल वीचि वल्लरी' की कवयित्री डॉ. पल्लवी मिश्रा संप्रति राजकीय महाविद्यालय डोईवाला (देहरादून) में अँग्रेजी विषय की सहायक प्रोफेसर...
- Advertisement -spot_img

More Articles Like This

- Advertisement -spot_img